यहाँ से कुछ दूर (Yahan Se Kuch Dur)

school girl lost in thought
“यहाँ से कुछ दूर, बैठे हैं इंतज़ार में यार मेरे…”

यहाँ से कुछ दूर स्कूल की सीढ़ियों में,
शायद बैठे होंगे अब भी यार मेरे,
होगा कोई बीमार प्यार में तो कोई किताबों का सिरदर्द पाले होगा,
कोई होगा बेंच बजता तो कोई नोटबुक के आँखरी पाने को रंगो से भरता होगा,

यहाँ से कुछ दूर,
मस्जिद की आज़ान सुनाई देती है जहाँ,
आने वाले कल की बातें अब भी होती होंगी,
ऐसा करेंगे, वैसा करेंगे,
सपनो में करवट लेती रातें होंगी,

यहाँ से कुछ दूर,
जेब में पैसों की किल्लत जारी होगी,
दो-दो रुपए जमा करके दुकान से गेंद अभी लाई होगी,
साइकल की पंक्चर ठीक करता होगा कोई,
तो कोई लड़कियों के लिए बाज़ार के चक्कर लगाता होगा,

यहाँ से कुछ दूर,
यार अब भी जमा हो जाते हैं मेरे घर के बाहर,
कोई चिल्लाता है नाम लेकर तो कोई,
चारपाई से घसीट ले जाता है,
कोई वजह नही,
वक़्त की कोई फ़िक्र नही,
बस जाना है कहीं घूमने,

और अगर कल मैं रुक्सत हो जाऊँ इस जहाँ से
तो यारों गम ना करना,
मैं फिर आउँगा के,
यहाँ से कुछ दूर,
बैठे हैं इंतज़ार में यार मेरे…

-N2S
01022014

The Best Idiots in the World

Funny Poem about Best Friends

Best Friends
“Every day I will remember the best idiots in world…”

My tangled hair with the weird hairstyle,
The boys are calling, Sats arrived with his usual smile,
Maks is paying for the Conty’s hot non-veg soup,
There is Buddha proud of his Basketball shoot,
Ajink is missing; perhaps he needs a beat,
Through Temple hill, to the Deolali street,
My first cigarette, my first beer,
My first educational movie with the Sats where Maks was shedding his tears,
He is heartbroken over his first love,
She is Eagle Gym’s neighbor,

My first crush has the cutest smile in the world,
I would lose my chance if I would profess my love,
Nits has brought her bullet to the tuition too,
Mamta messaging me, I have been using phone booth,
My first fight at the school ground, my unusual adolescence,
There go my school days and my childish innocence,
Perhaps not every day I will remember the best idiots in world,
But again not a day goes by when I don’t miss them,
or perhaps it’s the beer talking…

-N2S

[Photo by Matheus Ferrero on Unsplash]


School Reunion 2014

School Reunion 2014 is a short video celebrating the reunion of old classmates of K.V. No. 1 Deolali-Camp. These friends meet after a period of nearly a decade and walk again in the corridors of their beloved school. They discuss how life has changed, laugh, play and argue just like old times. They are not sure if they will see each other soon or when they will plan next reunion. But whatever they will go, wherever they will go, they will also carry a part of their school life with them. Watch the video to relive a moment of your childhood innocence and friendship…revisit your school days…


काश मैं बड़ा ना होता (I wish I did not grow up)

Empty Swings
“काश मैं कभी बड़ा ना होता,
तो शायद बचपन की खुशियाँ रद्दी में ना जाती…”

बताया था किसी ने की उम्र के इस पड़ाव में
जेब में सिक्के नही होते,
खुशियों की कीमत हो जाती है इतनी की
वे ठेलों या गली-कूचों में नही बीकते,
कभी हथेली से भी बड़े दिखते थे जो सिक्के,
अब वे उंगलियों में गुम हो जाते हैं
पर एक-एक कर गुल्लक में नही गिरते,

अब कोई मेरी पेन्सिल नही चुराता,
नोटबुक के आँखरी पन्ने को कोई खराब नही करता,
शाम को नही निकलता मैं खेलने,
की ज़िंदगी की छुपन-चुपाई में छिपे बैठे हैं
सब यहीं कहीं,
चले जाते हैं कुट्टी करके जो यार अब,
बटी करने वापिस नही आते,

रात में जो कभी नींद आ जाती है फर्श पर,
तो फर्श पर ही सुबह होती है,
की कंधे पर रखकर
बिस्तर पर सुलाने कोई नही आता,
जो हाथ संवारते थे बाल मेरे,
आज उन हाथ में मेरा सर नही आता,
अच्छा भी है की कोई कान नही खींचता,
कोई मुर्गा नही बनाता,
पर जो अब ग़लती करता हूँ मैं,
कोई समझाकर ग़लती ठीक करने की मोहल्लत नही देता,

घर की चीज़ें खिलोना नही बनती,
शब्द गीतों में तब्दील नही होते,
नाचने के लिए मौकों की इज्जाज़त लेनी पड़ती है,
और दीवारों पर रंग नही चढ़ता,
कभी सोचता हूँ की काश मैं कभी बड़ा ना होता,
तो शायद बचपन की खुशियाँ रद्दी में ना जाती…

-N2S

[Photo by Brandon Couch on Unsplash]


मैं जा रहा हूँ स्कूल फिर से (I am going back to school)

school corridor
“कमीनों कल स्कूल आ जाना,
क्या करूँगा तुम्हारे बिना स्कूल कॉरिडर पे अकेला खड़ा होके…”

भाड़ में जाए सब कुछ, मैं जा रहा हूँ स्कूल फिर से,
अब नही झेली जाती ऑफीस की झिक-चीक,
घरवालों की खीट-पीट,
मैं चला स्कूल फिर से,
सफेद शर्ट सीला लूँगा, नीली पॅंट तो पहनता ही हूँ वैसे,
छोटे भाई से ले लूँगा टाइ उधार,
काग़ज़ों के जहाज़ बनाने है आज से,
पहली बेंच पे अब नही बैठूँगा मैं,
बॅक बेंचस होंगी मेरा ठिकाना अब से,

पढ़ाई अब नही करूँगा मैं,
ना ही रात भर जगूंगा फ़ॉर्मूला रटके,
किस लिए बर्बाद करूँ स्कूल के प्यारे दिन,
उन चीज़ों पे जिनका कल कुछ सरोकार नही मुझसे,
अब तो बस स्कूल की सीडीयों पे बसेरा होगा,
बाकी बातें लाइब्ररी में बैठके होंगी,
ज़िंदगी से ऐसे सबक मिल चुके हैं के सब टीचर्स से यारी होगी,
रोज़ क्रिकेट मैचेस होंगे, क्लास में अंताक्षरी होगी,

एक तरफ़ा प्यार में अब किसी का दिल टूटेगा नही,
कुछ इस तरह इज़हार-ए-दिल करेंगे की उसको भी हमारी फ़िक्र होगी,
अपना खुद का बॅंड भी बनाना है,
कॉपियों के पिछे चित्रकारी करनी है,
लंच के लिए टीफिन भी तैयार करना है,
पर चाहे कितनी भी छुट्टी की घंटी बजे मुझे घर नही जाना,
मुझे पास होकर बड़ी क्लास में नही जाना,

एक बार स्कूल की चार दिवारी के बाहर जाकर देख चुका हूँ,
यहाँ दोस्त मतलबी बन जाते हैं,
यहाँ दुनियावाले बहुत बुरे बन जाते हैं,
सब कुछ चाहने वालों मेरे हिस्से की कामयाबी भी तुम ही ले लो,
मैं तो चला स्कूल फिर से,
बस इतनी सी इंतेज़ा है अपने स्कूल के यारों से,
कमीनों कल स्कूल आ जाना,
क्या करूँगा तुम्हारे बिना स्कूल कॉरिडर पे अकेला खड़ा होके…

-N2S

[Photo by Kyo Azuma on Unsplash]