बस खिलौने कम हैं (Bas Khilaune Kam Hain)

closeup photo of white petaled flower showing beauty of life

अब अश्क सवाल नहीं पूछते,
वजह ढूंढते हैं बह जाने को,
हम बुद्धू हैं कि ,
यह समझ नहीं पाते,
मतलबी लोग नहीं, बस आलसी हैं,
साँसों की गिनती तो पहले जितनी ही है,
अब बस खिलौने कम हैं पाने को,

कल का हस्र देख, आज थोड़ा और जी लूँ ,
की कल से कम ही तुलेंगी खुशियां
ज़िन्दगी के तराज़ू पर,
हर दिन गुज़र जाता है सिकवे करते-करते,
हर शाम एक और वजह मिल जाती है खो जाने को,
वक़्त लाया तो है तरीके बहुत बातें कहने के लिए,
बस अलफ़ाज़ कम रह गए हैं सुनाने को,
आज भी इसी आस में सो जाते हैं,
की कल कोई उठाएगा,
स्कूल जाने को…
-N2S
02012019

मुझसे मैं मिलूँ (Mujhse Main Miloon)

silhouette of a boy walking with a backpack against the horizon

मिला ही नहीं मैं किताबों के अक्षरों में,
ना था मैं शब्दों के शोर में,
और ना रिश्तों की बंदिशों में,
पता ही नहीं चला के ये सफ़र कब हुआ शुरू,
तो कहाँ मिलता मैं दुनिया के सच और झूठ में,

मिला नहीं मैं दोस्तों की भीड़ में,
ना ही छलका किसी की आँखों में,
ना ही सुकून मिला किसी की बाहों में,
कोशिश बहुत की ठहर के ढूँढूँ इन रास्तों पर,
मगर कहाँ मिलता यहाँ तो हर कोई खुद से कोसो दूर है,

सोचा शायद सुनसान सड़कों में मिलूँ खुद से,
शायद पहाड़ों की उँचाई से दिखूं,
बिका नहीं नोटों की खुश्बू से,
रुका नहीं कमजोर हसरतों की ज़ंजीरों से,
फिर भी ढूँढ ना पाया खुद को कहीं,

अब सोचता हूँ की शायद मैं तो यहाँ कभी था ही नहीं,
फिर भी एक आस लिए भटकता हूँ की क्या पता कहीं
किसी मोड़ पर
मुझसे मैं मिलूँ…

-N2S
21092012

वाह री हमारी डेमॉक्रेसी (Hail The Democracy)

Indian National Flag

चलता हूँ मैं सड़क पर तो,
लगे पोस्टर, बैनर हज़ार हैं,
कई देते है मुबारक जन्मदिन के तो
कई पर छपे श्रद्धांजलि के मज़ार हैं,
क्या फ़र्क पड़ता है के मैं क्या सोचता हूँ,
लाखों की इस भीड़ में खड़ा में एक खामोश वक्ता हूँ,

ख़याल आता है अक्सर के मेरे शब्दों की अहमियत क्या होगी,
है मुद्दे देश के ज़रूरी कई, मुझसे सवाल करने की फ़ुर्सत किसे होगी,
पर आज एक खबर आई जिसने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया,
एक लड़की के सीधे-सादे सवाल पर नेताओं की भीड़ ने बवाल किया,
उसको और उसकी नादान दोस्त को हमारी बहादुर पोलीस ने गिरफ्तार किया,
उससे भी ना पेट भरा जब जनसेवकों का तो
उस लड़की के चाचा के हस्पताल में मरीज़ों को बेहाल किया,

वाह रे मेरे देश, वाह री हमारी डेमॉक्रेसी,
हमसे तो बेहतर चीनी है,
की अपनी तानाशाही पर वे ईमानदार तो हैं,
यहाँ भूखे पेट लोगों की पैरवी करने के लिए किसी के पास वक़्त नही,
बीमारी, कुपोषण जैसी दर्जनो समस्यायें है पड़ी धरी की धरी,
देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए मुट्ठी भर भीड़ नही जुट पाती,
और लाखों का हुज़ूम देता है नेताओं को विदाई,

क्या इतनी नासमझ हमारी सोच बन गयी है,
की संकीर्णता से भरे शब्दो में फ़र्क नही कर सकती है,
नेता जिनके पास समस्याओं का समाधान नहीं,
जो बस जानते हैं देना झूठे बयान, थोपना धर्म और जाती पर ज़िम्मेदारी,
क्यूँ नही देख सकते हम के इन राजनेताओं को हमारी परेशानियों से कोई सरोकार नही,
यह तो हमसे ही लेंगे माचिस और हमें जला देने में इन्हे कोई मलाल नही,

क्या हो सकता है उस देश का भविष्य, जिसके नेता मक्कार हों,
जिन्हे नहीं अपनी सरजमीं की फ़िक्र, चाहे वो कितना ही बिखरता हो,
रोष तो मुझे अपने नौजवान दोस्तों पर भी आता है,
जो हैं मसगूल क्रिकेट मॅच देखकर सिगरेट के कश लगाने में,
जो बस जानते है जेबों में महेंगे मोबाइल लेकर घूमना,
और बेफिक्री में इंटरनेट पर खुद की तस्वीरों को शेयर करना,
जिनमे है ताक़त देश को बदल सकने की,
वे तो हवाले कर चुके हैं देश चोरो को, उन्हें बस पड़ी है सेल्फी की,
दूसरों के घर को जलता देख ये लोग भूल जाते है,
के कल ये आग तुम्हारे घर भी दस्तक ज़रूर देगी,

अगर मेरे ये दो शब्द लिख देने से कोई आहत होता है,
तो याद रहे की ये देश अब भी आज़ाद लोगों का है,
अपना फ़र्ज़ निभाने पर अगर किसी को मेरा खून चाहिए,
तो याद रहे की मैं हँसकर आज़ादी को अपना कफ़न बना लूँगा,
की शहीद-ए-आज़म भी कहकर गए हैं,
पराधीन हवा में साँस लेने से बेहतर मुझे दो पल की आज़ादी प्यारी है,

झूठी आज़ादी का दम भरने वाले लोगों से मेरी यही इंतेज़ा है,
कायर नही मैं, मैं तो बस अपने हक़ की साँस के लिए लड़ रहा हूँ,
कल मेरी शहादत पर मुझपर तिरंगा ना लपेटना,
के वह सिर्फ़ एक बहादुर सैनिक का हक़ है,
जिसने बहाया हो खून देश के लिए,
वो खूबसूरत कफ़न उसकी अमानत है,
यूँही उसे सब पर लपेटकर उसकी मौत आम ना करना,
आम ना करना…

-N2S
20112012

Disclaimer: Written at the time of Congress Government in 2012 but the current situation in the country is pretty much the same.

मेरा यार (Mera Yaar)

two school friends
“जब बारी आई अलविदा कहने की,
तो तेरा हँसता हुआ चेहरा याद आया…”

कल जब ज़िंदगी धीरे-धीरे हमसे सब छीन लेगी,
और उम्र की आँखरी सीढ़ी पर जब तुझे खड़ा देखूँगा,
ना जाने कितनी हसरतें अधूरी रह गयी होंगी,
ना जाने कितने वादे अधूरे रह गये होंगे,
हज़ार शब्दों के बीच में कुछ बातें अनकही रह जाएँगी,

चेहरा तो बहुत पहले भूल चुका होगा,
पर आँखों में बचपन की एक पुरानी याद रह जाएगी,
तुम्हे शायद याद भी ना होगी हमारी पहली मुलाकात,
की ना जाने कितनी सुबह तूने मुझे जगाया था,
ना जाने मेरे कितने खिलौने उधार लिए थे,
की प्यार भी किया उससे जिसे मुझे प्यार था,
और ना जाने कितनी शामों को हम लड़े थे,

ऐसे ही लड़ते झगड़ते ज़िंदगी के सारे मौसम आकर चले गये,
और जब बारी आई अलविदा कहने की,
तो तेरा हँसता हुआ चेहरा याद आया,
दूर कहीं मीठी से बीन की धुन बज रही होगी,
जैसे तुम्हे घर बुला रही हो,
कह रही हो जैसे शाम बहुत हो गयी है,
और घर के दरवाज़े पर खड़ी तेरी माँ तेरा इंतज़ार कर रही है,
पर मेरे यार, इस बार जो तू हसके रुख़्सत होगा,
यह कहकर की कल फिर मिलेंगे,
मैं जानता हूँ की कल तू नही आएगा,

बचपन से खेले थे जो खेल,
आज उनमें मुझसे जीतने तू नही आएगा,
जब सब लोग चले जाएँगे तुझे अलविदा कहकर,
और तेरी कब्र पर फूलों का ढेर लगा होगा,
मैं उस पत्थर पर हाथ फेर कर लिख जाउँगा,
यहाँ लेटा है मेरा यार,
जिसे मैं कल उठाने आउँगा…

-N2S
11082013

बस मुस्कुरा देना (Bas Muskura Dena)

beautiful woman smiling
“वो वक़्त जब उनको देखते ही दिल की धड़कन तेज़ हो जाया करती थी”

किसी शाम मिल जाती है जब वो राह में,
वही खूबसूरत चेहरा और बड़ी-बड़ी भूरी आँखें,
कहता नही मैं कुछ बस ऐसे ही मुस्कुरा देता हूँ,
इस मुस्कुराहट में ना वो है और ना मैं हूँ,
ये तो बस उस वक़्त की शायद एक याद भर है,

वो वक़्त जब उनको देखते ही दिल की धड़कन तेज़ हो जाया करती थी,
और मैं उनसे मिलने की नयी नयी तरकीबें ईजाद किया करता था,
सोचता था यह कहूँगा वो कहूँगा,
उनसे दिल की सारी बातें कह डालूँगा,
पर जब वो मुस्कुराकर बात करती मुझसे,
मैं पागल, अपने सूखे होंठों को जीभ से गीला करता रहता,
दिन के हर पहर में तो थी वो ही,
और सपनो में तो उनसे ब्याह भी हो जाता,

इजहार-ए-दिल किया ना गया जैसा सोचा था,
और उन्हे भी नही थी फ़ुर्सत मेरे अरमानों को आँखों से पढ़ लेने की,
ना जाने क्या चाहिए था उन्हे,
जब मैं अपनी हर चाहत में उन्हे लिए बैठा था,
कितना माँगा उन्हे उपरवाले से,
मंदिर की चौखट भी पहुँच गया मैं नास्तिक उन्हे माँगने,
झूठ ही होगा अगर कहूँगा की रोया नही मैं अकेले अकेले,
और दो आँसू भी बह गये इस आशिक़ के
जब वा मुझे देखकर राह बदलने लगी,

हमने भी अपनी दू-पहिया मोटरगाड़ी निकाली,
और टूटे दिल को दफ़न कर आए नदी किनारे,
इस डर से के लोग कहेंगे की हमारा इश्क़ झूठा था,
मैखाने में उनके नाम के दो घूँट भी पी आया,

आज कई सालों बाद,
जब वे दिख जाती हैं उसी राह पर फिर से,
और दिल के किसी कोने से एक आशिक़ चीखने की कोशिश करता है,
मैं उसको ये समझाकर चुप कर देता हूँ,
की उनका भी कसूर नही था,

मेरी आशिक़ी को हाँसिल करे उनकी शायद ऐसी किस्मत ही नही थी,
और मेरे दिल को खरीद सके शायद उनकी इतनी हैसियत नही थी,
के अब ये दिल उनके लिए कभी नही धड़केगा,
इस पर वो आशिक़ बोल उठा,
चलो कुछ और ना सही,
उनके आने पर मुँह फेर ना लेना,
मुझे आज भी फ़िक्र है की उन्हे बुरा लगेगा
उस दौर की खातिर बस मुस्कुरा देना…
-N2S
12032014