Sleepless Nights

a Sleepless girl looks at night sky

Sleepless…sleepless again,
Another long night,
It’s me back to the same old tragedy of
my bloodless fight,
Eyes wouldn’t close,
It’s late and cigarettes are being burned in rows,

Happiness is not cheap anymore,
It’s pricey and doesn’t stay for long,
The problem is, I can see my downfall from a mile
and still heading that way,
Who says I have free will?
All I do is what others say,

Love? Friendship? Work?
Seem just meaningless words,
Maybe they are just some silly reasons to pass another day,
Then this long night, I need some more words
or this restlessness won’t go away,

I can only hope that I sleep before these cigarettes perish,
Or maybe it’s just my another unfathomable wish,
Why I am like this?
Why I can’t close my eyes and see what everybody sees?
Meddled with thoughts of wrongs and rights,
It’s another of my sleepless nights…
– N2S
10092015

मंज़िल से पहले (Manjil Se Pehle)

a boy looking at the sea appearing thoughtful

थी जो आग मुझमे,
जलती थी जो मेरे अंदर,
वजह थी वह हर खुशी की,
हर सपना उससे जगमगाता था,
कहती थी हसरत, कुछ हसीन है मंज़िल मेरी,
कुछ अलग सी तकदीर है मेरी,

उस मोड़ से दूर कहीं एक राह बहुत लंबी है,
जहाँ है थोड़ी यादें, लम्हों की कमी है,
डर लगता है की ये आग बीच राह में ही बुझ ना जाए,
जीतने की ये हसरत कहीं ऐसे ही सुख ना जाए,
हर बीता हुआ दिन कुछ और साँसे खर्च कर जाता है,
कुछ चेहरे, कुछ शिकवे बेवजह दे जाता है,

कदम चलता हूँ हज़ार मगर पर क्यूँ वहीं खड़ा हूँ मैं,
जितना समझुँ में खुद को उतना उलझता जाता हूँ मैं,
आँखें बंद करूँ तो दम सा घुट जाता है,
पर खुली आँखों से भी अंधेरा दूर कहाँ जाता है,
कभी कोशिश करता हूँ किसी को हँसाने की,
पर ये सोचकर ही हँसी बिखर जाती है की यह कोशिश कितनी झूठी है,
जब खुद ही दम तोड़ चुके है अरमान,
तो फिर मंज़िल से क्यूँ ये दूरी है,

हर जाती हुई शाम मुझे मेरे सपनों से दूर कर देती है,
और हर सुबह मेरे हसीन सपनो को तोड़ देती है,
धीरे धीरे ये आग बुझने लगी है,
पर जब देखता हूँ तो मेरी कहानी अब भी अधूरी सी है,
और जैसे कुछ कहानियाँ अक्सर ख़त्म हो जाती है मंज़िल से पहले,
बस एक डर है कहीं ये आग ना बुझ जाए मेरे जलने से पहले…
-N2S
20012012

1 AM Friend

a woman sitting alone in the night and smoking

It’s 1 AM and my eyes are on mobile screen,
have already read everyone’s posts, comments, and whining,
All cigarettes in the carton have perished,
and the sad playlist is almost finished,
But for me, there is still no sleep,
I wish to go out this time of the night,
lie on the road and watch the stars in the entire Galaxy,

I am in love,
but she is asleep,
the confusion, the restlessness engulfs my soul,
I wish she could see this,
With no expectations or any hope,
without any lie or pretend,
I need someone to talk,
I just need a 1 am friend,

Would talk food, would talk politics,
hours on movies, would talk anything about electronics,
Would listen to my favorite songs,
would discuss the rights and wrongs,
Then there would be stories,
ranging from horrors to comedies,

Mumbai streets would be our beds,
and the savory vada pav would fill us,
We would know there is no future for us;
We would be two lonely creatures of the night as such,
Smoke with me,
Share sleepless moments with me,
Fall on me,
and say whatever hurting,
Without any promises of togetherness,
Give my loneliness some meaning,

Like everything, these nights will also end,
But for now, my loneliness really needs a 1 am friend…
-N2S
13092015

There Is A Place

a man looking at the evening sky
“There is a place in my heart,
where love is sleeping in peace…”

There is a place on the internet,
where beautiful music plays and incorrupt souls sing,
far from the glitz, glamour, noise and fancy things,
Artful creations ripped from the heart, drenched in nostalgic emotions,
Paintings with colors of life and brushes of reflections,
It doesn’t matter if every ear gets them,
Perhaps their beauty lies in whispering the silent rhythms,

There is a place in my city,
where only wanderers and dreamers dwell,
Looking up to the sunset, every day becomes farewell,
There is no haste, there is no chase,
Nobody owns it, and it’s everybody’s place,
Beauty doesn’t have to be praised always,
Sometimes it is just about a moment of cathartic taste,

There is a place in my heart,
where love is sleeping in peace,
Far from disguises, lies, and make-believe,
It is where nobody comes, nobody interferes,
Somewhere I am true, holding something I care,
Life is not about breathing, growing and dying,
Perhaps it is just about feeling…

-N2S

मेरी आवारगी (My Vagrancy)

lonely man looking at the dark sky
“सब होंगे अपने चाहने वालों की बाहों में, और एक मैं लाखों तारों के नीचे, अकेली रात से बातें करता हूँ…”

रात के दूसरे पहर, मैं दबे पैर घर से निकलता हूँ,
दुनिया नींद की आगोश में लिपटी है,
मैं अपने आवारगी से मजबूर, रात की राजकुमारी से मिलने चल पड़ता हूँ,
मोटर साइकल को आहिस्ते से निकालता हूँ,
के कहीं शोर से किसी की नींद ना टूटे,
मेरी आवारा फ़ितरत से किसे के सपनो का सिनेमा ना टूटे,

सुनसान सड़कों पर जब मैं हवा से बातें करता हूँ,
जहन में सुलगते सारे सवालों से परे होता जाता हूँ,
बस एक अजीब सा एहसास बाहें फलाए सीने को जकड़ लेता है,
और जब ठंडी हवा के झोंके मुझे हवा में उड़ाने लगते हैं,
बस मन करता हैं आँखें बंद करके बस उड़ता रहूं,

काजल से काली रात में सड़कों पर पीले रोशनी बिखरी पड़ी है,
पर कहीं-कहीं सिहाय काली झाड़ियों में कोई आकृति हिलने लगती है,
काले जॅकेट की गर्मी मेरे शरीर को ठंड से दूर रखती है,
पर चेहरे पर ओस हल्के-हल्के जमने लगी है,

सड़क पर ऑटो रिक्शा मुसाफिरों को ले जा रही है,
कुछ लौट रहे हैं घर को और कुछ सफ़र तय करने को निकले हैं,
सब सलामत रहे, बस आसमान को देख यही एक दुआ माँग लेता हूँ,
कुत्ते भी अब भौंकते नही, शायद मुझे पहचानने लगे हैं,
और जो डर था मुझे काले चेहरों से,
अब वो भी उतरने लगा है,

कहीं किसी जगह रुककर तारों को देखने लगता हूँ,
सिगरेट के दो कशों की ताशीर से खुद को सेक लेता हूँ,
दोस्त, यार और वे हसीन जिनसे कभी दिल लगाया था,
सब होंगे अपने चाहने वालों की बाहों में,
और एक मैं लाखों तारों के नीचे, अकेली रात से बातें करता हूँ,

पूछता हूँ मैं रात से के मेरी आवारगी कब ख़त्म होगी,
कब मुझसे मेरी यह जंग, ये बेचैनी ख़त्म होगी,
रात कंधे पर सर रखकर बोली,
तुम हो साथी मेरे पर मैं थोड़ा सा डरती हूँ,
मैं तो हूँ हमेशा से अकेली पर तुम हमेशा साथ ना रहोगे,
आज जवान हो तुम, ताज़े फूल से खिले हो,
बेइन्तेहाँ खूबसूरत है ये बेसब्री तुम्हारी,
पर कल जब आएगा, तुम ऐसे ना रहोगे,

मैने हंसकर कहा, मेरी इस जवानी से शायद देवता भी जलते हैं,
वे नहीं जानते की हर काली रात के बाद सुबह कितनी खूबसूरत है,
मौत को टुकूर-टुकूर कर देखती ज़िंदगी कितनी हसीन है,
मेरे इस क्षण भर की ज़िंदगी में ही मेरी अमरता है,
इन चंद सासों के अंतराल में ही मेरी कहानी का सारांश है,
तुम भी हमेशा अकेला कहाँ रहती हो,
मिल ही जाते है तुमको मेरे जैसे दिल-फेंक आशिक़,
कल ना जाने किसका हाथ थामो तुम मगर,
आज मेरी इस आवारगी की हमसफ़र सिर्फ़ तुम हो…
-N2S
21072013