Rented Room

a filled dark room with a poster and a quote written on it
While changing address, I looked at my old room for the last time,
I didn’t remember exactly when I came here and made it mine,
This room saw me grow,
It witnessed my high and low,
I had spread my world in this few hundred square feet place,
I cleaned it, maintained it, decorated it in refined taste,

It saw me and friends bursting in laughter,
It also looked at me when I was lonely and no one was there,
These walls heard my wishpers;
my late night conversations with the girl I loved,
Then it also stood silently
when my heart was broken and battered,

This was a rented address but it was my home,
It wouldn’t remember me, it would belong to someone else once I am gone,
As I stepped into the cab for my new address,
A thought came to me, which should be said,
Life is nothing but a rented room, you can’t have it forever,
So don’t get too attached to it, in the end, nothing matters…
-N2S
13072015

मंज़िल से पहले (Manjil Se Pehle)

a boy looking at the sea appearing thoughtful

थी जो आग मुझमे,
जलती थी जो मेरे अंदर,
वजह थी वह हर खुशी की,
हर सपना उससे जगमगाता था,
कहती थी हसरत, कुछ हसीन है मंज़िल मेरी,
कुछ अलग सी तकदीर है मेरी,

उस मोड़ से दूर कहीं एक राह बहुत लंबी है,
जहाँ है थोड़ी यादें, लम्हों की कमी है,
डर लगता है की ये आग बीच राह में ही बुझ ना जाए,
जीतने की ये हसरत कहीं ऐसे ही सुख ना जाए,
हर बीता हुआ दिन कुछ और साँसे खर्च कर जाता है,
कुछ चेहरे, कुछ शिकवे बेवजह दे जाता है,

कदम चलता हूँ हज़ार मगर पर क्यूँ वहीं खड़ा हूँ मैं,
जितना समझुँ में खुद को उतना उलझता जाता हूँ मैं,
आँखें बंद करूँ तो दम सा घुट जाता है,
पर खुली आँखों से भी अंधेरा दूर कहाँ जाता है,
कभी कोशिश करता हूँ किसी को हँसाने की,
पर ये सोचकर ही हँसी बिखर जाती है की यह कोशिश कितनी झूठी है,
जब खुद ही दम तोड़ चुके है अरमान,
तो फिर मंज़िल से क्यूँ ये दूरी है,

हर जाती हुई शाम मुझे मेरे सपनों से दूर कर देती है,
और हर सुबह मेरे हसीन सपनो को तोड़ देती है,
धीरे धीरे ये आग बुझने लगी है,
पर जब देखता हूँ तो मेरी कहानी अब भी अधूरी सी है,
और जैसे कुछ कहानियाँ अक्सर ख़त्म हो जाती है मंज़िल से पहले,
बस एक डर है कहीं ये आग ना बुझ जाए मेरे जलने से पहले…
-N2S
20012012

1 AM Friend

a woman sitting alone in the night and smoking

It’s 1 AM and my eyes are on mobile screen,
have already read everyone’s posts, comments, and whining,
All cigarettes in the carton have perished,
and the sad playlist is almost finished,
But for me, there is still no sleep,
I wish to go out this time of the night,
lie on the road and watch the stars in the entire Galaxy,

I am in love,
but she is asleep,
the confusion, the restlessness engulfs my soul,
I wish she could see this,
With no expectations or any hope,
without any lie or pretend,
I need someone to talk,
I just need a 1 am friend,

Would talk food, would talk politics,
hours on movies, would talk anything about electronics,
Would listen to my favorite songs,
would discuss the rights and wrongs,
Then there would be stories,
ranging from horrors to comedies,

Mumbai streets would be our beds,
and the savory vada pav would fill us,
We would know there is no future for us;
We would be two lonely creatures of the night as such,
Smoke with me,
Share sleepless moments with me,
Fall on me,
and say whatever hurting,
Without any promises of togetherness,
Give my loneliness some meaning,

Like everything, these nights will also end,
But for now, my loneliness really needs a 1 am friend…
-N2S
13092015

बेफिक्री (Carefree-ness)

lonely-boy
“हसरतों के समुंदर से जब किनारों को खोजता हूँ,
ना जाने क्यूँ और डूबता चला जाता हूँ मैं…”

सफेद धुएँ सा उठता हुआ कहीं खो जाता हूँ,
फूलों पर ओस की बूँदों सा लिपट जाता हूँ मैं,
खाली पन्नों पर खींचने को बेताब,
चंद शब्दों में ही ठहर जाता हूँ मैं,
हाथों की लकीरों में ना जाने क्या मंज़िल लिखी होगी,
फिलहाल तो वादियों,रास्तों, दरखतों में ही पनाह लेता हूँ मैं,
गाड़ी की रफ़्तार से जब झुलफें आँखों पर आती हैं,
बाहें फैलाकर पंछीयों सा उड़ जाना चाहता हूँ मैं,

समुंदर किनारे शाम को अलविदा कहता हूँ,
रेत में नंगे बदन लेटकर तारे गिनता हूँ मैं,
आवारगी है दिन में, रातें बेचैन फिरती हैं सड़कों पर,
कभी चाई की चुस्कियों में तो, कभी शराबी बन जाता हूँ मैं,

यारियाँ पहली सी ना रही,
जो थी नदियों सी शरारती,
अब वे बादल की बूदों की तरह कभी कभार ही बरसती,
उन्ही चंद बूँदों में बिनमौसम भीग लेता हूँ मैं,

हर खूबसूरत चेहरा है अपना, पर हम किसी के नहीं,
अब पहला सा आवारा दिल लिए फिरता नहीं,
जिनसे था प्यार कभी जहानों में,
एक-एक कर उनकी डोलियों को कंधा दे आया हूँ मैं,
कभी एक खलिश सिने में उठ ही जाती है की…
किसी को इंतेज़ार नही मेरा, फिर भी ना जाने किसकी राह तकता हूँ मैं,

बचपन के खेल मीठी यादें बन गये,
जवानी हर दिन एक नया इम्तिहान ले आती है,
आज बसतों में सपने कम उम्मीदें ज़्यादा हैं,
हसरतों के समुंदर से जब किनारों को खोजता हूँ,
ना जाने क्यूँ और डूबता चला जाता हूँ मैं,

शाम की साग पर भले कोई मेरा इंतेज़ार ना करे,
और ना जाने किसकी बाहों में ये सफ़र ख़त्म हो,
तब तलक बेफिक्री में तन्हा चलता जाता हूँ मैं…

-N2S

[Photo by Joshua Earle on Unsplash]